शेयर मार्केट में ऐक्टिव डेरिवेटिव क्या है?- What is Active Derivative?

What is Active Derivative

शेयर मार्केट में ऐक्टिव डेरिवेटिव वे होते हैं जो स्पॉट प्राइस के करीब होते हैं, जैसे कॉल और पुट ऑप्शन्स या फ्यूचर्स। ये ट्रेडर्स को बाजार की चालों का लाभ उठाने का अवसर देते हैं। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम शेयर मार्केट में ऐक्टिव डेरिवेटिव क्या है?- What is Active Derivative?, डेरिवेटिव्स के प्रकारों, उनके उपयोग, और शेयर मार्केट में उनकी भूमिका पर चर्चा करेंगे। डेरिवेटिव्स की सही समझ के साथ, निवेशक अपनी ट्रेडिंग रणनीतियों को बेहतर बना सकते हैं और संभावित लाभ कमा सकते हैं।

डेरिवेटिव क्या है?– What is Derivative?

डेरिवेटिव ऐसे करार होते हैं जो अंतर्निहित संपत्तियों के मूल्य से अपने मूल्य प्राप्त करते हैं। ये संपत्तियाँ भौतिक (जैसे कि कमोडिटी) या वित्तीय (जैसे कि स्टॉक, इंडेक्स, करेंसी या ब्याज दर) हो सकती हैं। डेरिवेटिव कांट्रेक्ट (उदाहरण: गोल्ड फ्यूचर्स) और डेरिवेटिव कांट्रेक्ट्स में ट्रेडिंग करके लाभ कमाया जा सकता है।

डेरिवेटिव के प्रकार– Type of Derivative

फॉरवर्ड्स

फॉरवर्ड्स विशेष दर पर और निर्धारित तारीख को संपत्ति की एक निश्चित मात्रा को एक्सचेंज करने के लिए पक्षों के बीच ओवर-द-काउंटर (OTC) कांट्रेक्ट्स या करार होते हैं। ये हेजिंग में मदद करते हैं, जिसका अर्थ है कि संपत्ति की कीमतों में उतार-चढ़ाव के जोखिम को कम करना। लेकिन, फॉरवर्ड मार्केट में इनके संचालन के लिए कोई केंद्रीय एक्सचेंज नहीं होता है। इसके परिणामस्वरूप:

  • ये अत्यंत अव्यवस्थित होते हैं (यानी, बायर्स या सेलर्स को ढूंढना मुश्किल होता है)
  • आमतौर पर इन्हें किसी तारण की आवश्यकता नहीं होती और इसलिए समकक्ष जोखिम होता है, जिसका मतलब है कि करार के माध्यम से पक्षों का जोखिम होता है।

फ्यूचर्स

फ्यूचर्स मूल रूप से फॉरवर्ड्स होते हैं लेकिन इन्हें BSE (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) और NSE (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) जैसे केंद्रीय एक्सचेंजों पर ट्रेड किया जाता है। इसलिए, फॉरवर्ड मार्केट की तुलना में इनके पास अधिक लिक्विडिटी और कम प्रतिपक्ष जोखिम होता है।

ऑप्शन्स

ऑप्शन्स ट्रेडर्स को BSE या NSE जैसे केंद्रीय एक्सचेंजों के माध्यम से निर्दिष्ट तारीख पर एक विशेष कीमत (जिसे ‘स्ट्राइक प्राइस’ कहा जाता है) पर संपत्ति खरीदने/बेचने का अधिकार देते हैं। कांट्रेक्ट खरीदने के लिए चार्ज की जाने वाली कीमत ‘प्रीमियम’ कहलाती है। ऑप्शन्स दो प्रकार के होते हैं:

  • कॉल ऑप्शन: ये खरीदने का अधिकार देते हैं, जहां धारक (लॉन्ग) विक्रेता से संपत्ति खरीद सकता है।
  • पुट ऑप्शन: ये बेचने का अधिकार देते हैं, जहां धारक (लॉन्ग) विक्रेता को संपत्ति बेच सकता है।

डेरिवेटिव ट्रेडिंग क्या है?– What is Derivative Trading?

डेरिवेटिव ट्रेडिंग का अर्थ समझने के लिए हम एक उदाहरण का उपयोग कर सकते हैं। कल्पना करें कि एक व्यक्ति ने डेरिवेटिव कांट्रेक्ट खरीदा है। मान लें कि वह व्यक्ति कांट्रेक्ट की समाप्ति तिथि तक उसे रख सकता है और फिर स्ट्राइक कीमत पर संपत्ति को बेच सकता है। हालांकि, यह सलाह दी जाती है कि वे केवल तभी कांट्रेक्ट रखें जब वे इससे लाभ कमा रहे हों।

उदाहरण के लिए, अगर संपत्ति की स्पॉट कीमत ₹1000 है और ऑप्शन की स्ट्राइक कीमत ₹1200 है, तो संपत्ति बेचने वाले व्यक्ति के लिए ऑप्शन कांट्रेक्ट के साथ जाना लाभदायक होता है क्योंकि वह मार्केट रेट से अधिक कीमत पर संपत्ति बेच सकता है।

हालांकि, अगर स्पॉट कीमत ₹1500 के करीब है, तो पुट ऑप्शन कांट्रेक्ट ₹1200 पर रखना उचित नहीं है क्योंकि स्पॉट मार्केट अधिक दर प्रदान कर सकती है। अब, ऑप्शन का धारक या तो कांट्रेक्ट को जारी रखने का विकल्प चुन सकता है और पूरा प्रीमियम खो सकता है या बाजार में प्रीमियम पर ऑप्शन कांट्रेक्ट बेच सकता है, जिससे उसका नुकसान कम हो जाता है।

ऐक्टिव डेरिवेटिव क्या है?– What is Active Derivative?

शेयर मार्केट में ऐक्टिव डेरिवेटिव वे होते हैं जो स्पॉट प्राइस के करीब होते हैं, जैसे कॉल और पुट ऑप्शन्स या फ्यूचर्स। उदाहरण के लिए, अगर कोई शेयर ₹2000 के करीब ट्रेड हो रहा है, तो उस प्राइस के 20% ऊपर या नीचे जो भी कॉल और पुट होंगे, उन्हें उस शेयर के ऐक्टिव डेरिवेटिव माना जाता है।

ऑप्शन ट्रेडिंग में बिना बाजार की दिशा जानें पैसे कैसे कमाएँ?

निष्कर्ष

डेरिवेटिव्स शेयर मार्केट का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं जो निवेशकों और ट्रेडर्स को विभिन्न प्रकार के वित्तीय जोखिमों से हेजिंग और संभावित लाभ कमाने के साधन प्रदान करते हैं। ऐक्टिव डेरिवेटिव्स के माध्यम से, ट्रेडर्स मार्केट की चालों का लाभ उठाकर अपने पोर्टफोलियो का अधिकतम लाभ कमा सकते हैं।

इस प्रकार, डेरिवेटिव्स की गहरी समझ और सही समय पर ट्रेडिंग के साथ, निवेशक शेयर मार्केट में अपनी रणनीतियों को बेहतर बना सकते हैं और वित्तीय सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Comment

ये तो अभी शुरुवात है, पिक्चर अभी बाकी है…पीएम मोदी ऑप्शन ट्रेडिंग: अब ये समझ लीजिये फिर कभी नहीं होगा नुकसान शेयर्स क्या होता है?